विद्यासागर का सारा जीवन महिलाओं-गरीबों के उत्थान में बीता

दुमका:प्लस2जिलास्कूलमेंझारखंडबंगालीएसोसिएशनदुमकाद्वाराप्राचार्यअजयकुमारगुप्ताकीअध्यक्षतामेंभारतमांकेमहानसपूतएवंसमाजसुधारकईश्वरचंद्रविद्यासागरकी200वींजयंतीमनाकर,ईश्वरचंदविद्यासागरकोश्रद्धासुमनअíपतकियागया।कार्यक्रमकीशुरुआतईश्वरचंद्रकेफोटोपरपुष्पांजलिएवंमाल्यार्पणसेहुई।इसकेबादअíपतानाग,सुलताबनर्जीएवंअनामिशदासद्वारागुरुवंदनाकीगई।इसअवसरपरमुख्यअतिथिकेरूपमेंझारखंडबंगालीएसोसिएशनदुमकाकेअध्यक्षवाणीसेनगुप्तानेईश्वरचंद्रविद्यासागरकोनमनकरतेहुएकहाकिईश्वरचंद्रविद्यासागरभारतमांकेसच्चेसपूतथे।उन्होंनेबतायाकिइनकाजन्म26सितंबर1820कोमेदिनीपुरमेंएकगरीबब्राह्माणपरिवारमेंहुआथा।महिलाओंकोदूसराजीवनदेनेवालेईश्वरचंद्रविद्यासागरकासाराजीवनमहिलाओं,गरीबोंएवंदलितोंकेउत्थानमेंलगारहा।उनकाकर्मस्थलीझारखंडरहाहै।हमसभीभारतवासीआजउनकोनमनकरतेहुएगौरवान्वितहोरहेहैं।प्राचार्यअजयकुमारगुप्तानेकहाकिइसलोकमेंपदार्पणविरलेहीहोताहै।उन्होंनेबतायाकिईश्वरचंद्रविद्यासागर19वींसदीकेप्रसिद्धदार्शनिक,शिक्षाविद,समाजसुधारक,स्वतंत्रतासेनानी,लेखक,उद्यमीएवंपरोपकारीव्यक्तिथे।वेबंगालकेपुनर्जागरणकेस्तंभोंमेंसेएकथे।वेआधुनिकभारतकेजन्मदाताओंमेंसेएकथे।उन्होंनेस्त्रीशिक्षाऔरविधवापुनर्विवाहकेलिएआवाजउठाई।विशिष्ठअतिथिउपाध्यक्षअनामिकागणनेकहाकिईश्वरचंद्रविद्यासागरकथनीकेबजायकरनीमेंविश्वासकरतेथे।विधवापुनर्विवाहकोसमाजमेंमान्यतादिलानेकेलिएउन्होंनेअपनेइकलौतेबेटेकीशादीएकविधवासेकीथी।विशिष्ठअतिथिउपाध्यक्षबिमलभूषणगुहा(बाबूदा)नेकहाकिईश्वरचंद्रविद्यासागरसमयकेबहुतपक्केथे।उन्होंनेस्त्रीशिक्षाऔरविधवापुनर्विवाहकेलिएजोरदारआवाजउठाईथी।उन्होंनेबहुपत्नीप्रथाऔरबालविवाहकेविरुद्धभीआवाजउठाईथी।मांभारतीकेचमकतेसितारा29जुलाई1891कोपरलोकगामीहोगए।राष्ट्रपतिपुरष्कारप्राप्तशिक्षकदिलीपकुमारझानेकहाकिईश्वरचंद्रविद्यासागरयुवाओंकेलिएप्रेरणास्त्रोतहैं।वेएकमानवनहींबल्किसमाजकेपथप्रदर्शकमहामानवथे।उन्होंनेकहाकिऐसेमहानविभूतिकीआदमकदप्रतिमादुमकामेंअवश्यलगनीचाहिए।शिक्षकएलियनहांसदाएवंविद्यासुंदरनंदीनेभीअपनीबातोंकोरखा।मंचसंचालनशिक्षकमहेंद्रराजहंसनेकिया।नीरजनाग,दुलालचौधरी,सुशीतबरनचक्रवर्ती,पूरबीनाग,सुपर्णाखर,रामाबनर्जी,मालाबनर्जी,अíपतानाग,सुपर्णादास,शिक्षकप्रकाशकुमारघोष,डॉ.इतिकुमारी,अर्चनाकुमारी,सुशीलाकिस्कू,तरन्नूमप्रवीनएवंअंजूलताकिस्कूकीउपस्थितथी।