वैष्णो देवी माता मंदिर में ऐसे मची थी भगदड़, लखनऊ के चश्मदीद ने बताया आंखों देखा हाल

लखनऊ,जागरणसंवाददाता।मांवैष्णोदेवीकेदरबारमेंहुईभगदड़में12लोगोंकीमौतऔरकरीब40लोगोंकेघायलहोनेकीघटनाकेबादसेअन्ययात्रीभीदहशतमेंहैं।यहभगदढ़अचानककैसेऔरक्योंहुई,यहहरकोई जाननाचाहताहै।बिजलीविभागसेसेवानिवृत्तहुएलखनऊनिवासीसतनामसिंहपिछले50सालसेहरसालकीपहलीतारीखकोमांवैष्णोंदेवीकेदर्शनकेलिएजातेहैं।घटनाकेदौरानवहभीवहींथे।उन्होंनेबतायाकिअचानकभगदड़मचीतोकमरेसेबाहरदेखातोलोगएकदूसरेकेऊपरचढ़करनिकलरहेथे।हरओरचीखपुकारमचीथी।कटराकेसीओसाहबभीअपनेअमलेकेसाथमौजूदथेतोबड़ीघटनानहींहोसकी।

दरअसललोगनएसालकेएकदिनपहलेहीवहांपहुंचतोजातेहैं,लेकिनदर्शनएकजनवरीकोकरतेहैं।बेकाबूभीड़सेलोगोंकीजानपरआगई।आलमबागकेओमनगरनिवासीघनश्यामदासनेबतायाकितीर्थयात्रियोंकोरुकनेकीकोईव्यवस्थानहींथी।प्रशासनभीभीड़देखकरकुछनहींकरपारहाथा।दर्शनकेबजायलोगमांकेदरबारमेंहीरुकेरहेजिससेभीड़बढ़ीऔरभगदड़मचगई।क्योंकिलोगअंदर-बाहरआ-जारहेथेऔरहरकोईजल्दीमेंथा।इतनीभीड़पहलीबारदेखीहै।मैंकईबारआचुकाहूं।प्रशासननेसख्तीकीतोभगदड़मचगई।लोगोंकीभीड़बेकाबूहोगई।