पूर्वांचल के जिलों के विकास के सिलसिले में हुई बैठक

लखनऊ,17सितंबर(भाषा)उत्तरप्रदेशकेपूर्वांचलकेजिलोंकेसमग्रविकासकेसंबंधमेंविभिन्नविभागोंकीतरफसेतैयारकीगईकार्ययोजनातथाउसकेक्रियान्वयनकीरणनीतिपरबृहस्पतिवारकोविचार-विमर्शकियागया।राज्यसरकारकेएकप्रवक्तानेबतायाकिमुख्यसचिवआर.केतिवारीकीअध्यक्षतामेंहुईबैठकमेंपूर्वांचलसेजुड़ीविभिन्नपरियोजनाओंकाप्रस्तुतीकरणभीकियागया।बैठकमेंकृषि,सिंचाई,मत्स्यपालन,उद्योग,पर्यटनआईटी,चिकित्साएवंस्वास्थ्य,व्यावसायिकशिक्षा,बेसिक,माध्यमिकतथाउच्चशिक्षाएवंपरिवहनविभागद्वारापूर्वांचलकेसमग्रविकासकेलिएतैयारकीगईकार्ययोजनापरविभागवारसमीक्षातथाउसकेक्रियान्वयनकेरोडमैपपरगहनचर्चाकीगई।बैठकमेंथारूजनजातिकीखेतीकेपारम्परिकतरीकोंमेंसुधारएवंअनुसंधानपरबलदियागया।मुख्यसचिवनेकृषिअनुसंधानपरिषदकेमाध्यमसेथारूजनजातिकेपारंपरिकउत्पादोंकोचिह्नितकरउनकीगुणवत्तामेंसुधार,फसलविविधीकरणकोप्रोत्साहितकरनेतथामार्केटिंगकीव्यवस्थासुनिश्चितकरानेकोकहा,जिससेकिउनकीआमदनीबढ़ेऔरजीवनस्तरमेंसुधारहो।प्रवक्ताकेअनुसारइसमेंकहागयाकिजनपदबलरामपुर,महराजगंज,श्रावस्ती,बहराइचतथासोनभद्रमेंथारूजनजातिकीजनसंख्याअधिकहै,जिन्हेंइनकीपारंपरिकखेती,बकरीपालन,मुर्गीपालन,मधुमक्खीपालन,मशरूमउत्पादन,सब्जीउत्पादनकोप्रोत्साहनदेकरइन्हेंबाजारसेजोड़करसीधेलाभपहुंचायाजासकताहै।