क्या हमारे देश में अमीरी घटाए बगैर घट सकती है गरीबी...?

प्रतीकात्मकचित्र

मंगलवारकोसंसदकेबजटसत्रकाउद्घाटनहोगया।परंपराकेमुताबिकसरकारकालिखायाभाषणराष्ट्रपतिनेपढ़ा,जिसमेंगांव,किसानऔरगरीबपरसरकारकीकथनीहोगईहै,औरआगेक्याकियाजाएगा,यानीसरकारकीकरनी29फरवरीकोदिखेगी।उसीरोजअगलेसालकाबजटपेशहोनाहै।तभीपताचलेगाकिदेशके75फीसदीगरीबोंयादेशके75फीसदीकिसानोंयादेशके75फीसदीहिस्से,यानीगांवोंकेलिएक्याऔरकितनीमात्रामेंकरनेकाऐलानहुआ।वैसेतरह-तरहकेभयावहमुद्दोंमेंफंसेदेशमेंइसहफ्तेसंसदमेंबहसेंहोंगी।देशकेजैसेहालातबनगएहैंयाबनादिएगएहैं,उनमेंवेबहसेंहोंगीबड़ेकामकी।बुधवारकोदोनोंसदनोंमेंकामशुरूभीहोगया।राज्यसभामेंरोहितवेमुलाकेमुद्देकोलेकरहंगामाहुआऔरकामरुकनेकीस्थितिबनीहै।

लोकसभामेंसवाल-जवाबकासमयचलरहाहैऔरबातचीतकामाहौलबनानेकीकोशिशहोरहीहै।बहरहाल,बजटपेशहोनेकेपहलेइनचारदिनोंमेंगांव,गरीबीऔरकिसानोंकीबातेंकरनेकामौकाहै।हालांकिबजटदस्तावेजबनकरतैयारहोचुकाहै,बस,सार्वजनिकतौरपरगोपनीयहै।उसमेंरद्दोबदलकीगुंजाइशभीनहींहै,इसीलिएविपक्षबजटपेशहोनेसेपहलेकाल्पनिकविचार-विमर्शमेंउलझनानहींचाहेगा,लेकिनबादकीसमीक्षाकेलिएउसेतैयारीतोकरनीहीपड़ेगी।

गांवऔरगरीबीकेबीचभेदयाअभेद

वैसेतोगांवऔरकिसानकीबातहीकाफीथी,क्योंकिगांवऔरकिसानगरीबीकेपर्यायबनगएहैं।गरीबकोसुनतेहीगांवकेआदमीकाचेहरासामनेआताहै।शहरकागरीबभीहालहीमेंगांवसेआयाकोईमजदूरदिखताहै।इतिहासमेंझांकेंतोइसकेपहले'गरीबीहटाओ'कीसबसेबड़ीकरनी'70केदशकमेंइंदिरागांधीनेकीथी।कहतेहैं,उसकेबादसेअमीरीइसकदरबेचैनहोगईथीकि1971सेलेकर1975तकउन्हेंउद्योगऔरव्यापारजगतसेजंगजैसीलड़नीपड़ी।उन्होंनेक्या-क्याकिया,कितनाकिया,उनकीक्याहालतहुई,इसकीवस्तुनिष्ठसमीक्षाअभीतकनहींहोपाईहै।राजनीतिकइतिहासकेविश्लेषकबतातेहैकिकई-कईमुद्दोंमेंवहबुरीतरहउलझादीगईं,औरआखिरमें1984मेंशहीदहोगईं।

कहतेहैं,उसीदौरमेंहरितक्रांतिऔरश्वेतक्रांतिकाहीकमालथाकिगांव,किसानऔरगरीबकमसेकमखाने-पीनेकीतरफसेनिश्चिंतहोचलेथे,लेकिनगरीबीसेपिंडपूरीतरहतबभीनहींछूटा।

क्याहोसकताहैमौजूदाहालातमें...?

पिछलेदोसालमेंसरकारनेजितनेऐलानकिएहैं,उनसेतोनहींलगताकिनएशहरोंऔरउद्योग-व्यापारकीबजाएखेतीऔरगांवपरखर्चाकरनेकीयोजनाबनगईहोगी।अबतककेऐलानोंकोदेखेंतोगांवकेबेरोजगारोंकोखेतीकीबजाएकिसीनौकरी-धंधेपरलगवानेकीबातेंज्यादाकीगईहैं।सिंचाईकेइंतज़ामसेज्यादाहाईवेपरखर्चेबढ़ाएगएहैं।देशकोजगमगदिखानेकेलिएस्मार्टसिटीपरपूराज़ोरलगादियागया,हालांकिबादमेंउसेभी100सेघटाकर20शहरोंतकसीमितरखनेकीबातकीगई।सिर्फइसीलिएकिशहरोंकोजगमगऔरउन्नतकरनेकेलिएभीपैसेकेइंतज़ामकापचड़ापड़गया।इसकेलिए'मेकइनइंडिया'कीउम्मीदबंधाईगईहै।उधरबैंकोंकीबुरीहालतइसबातकीइजाज़तनहींदेरहीहैकिकरोड़ोंबेरोजगारयुवकोंकेलिएस्टार्टअपयोजनाशुरूकरवाईजासके।सबसेकेलिएमकान,पीनेलायकसाफपानी,नगर-कस्बोंमेंसाफ-सफाईकेलिएपैसेकेइंतज़ामकाजिक्रतकनहींहुआ।

अंतरराष्ट्रीयबाजारमेंकच्चेतेलकेदामएकचौथाईरहजानेसेजोपैसेबचे,वेहाइवेऔरदूसरेकामोंमेंखर्चहोगएं।ऐसीहालतमेंदेशके75फीसदीइलाके,यानीगांवोंकीबदहालीसुधारनेकेलिएपैसाकहांसेआपाएगा।हां,खेतकीमिट्टीकीजांचकेनामपरगांवकोउन्नतिकीदिशामेंलेजानेकाप्रचारभरकियाजासकताहै।जलप्रबंधकीपुरानीयोजनाओंकोचालूकरनेकीकोईबातनहींहुई।बसबेतवाकेनकोजोड़नेकाआधा-अधूराइरादाभरजतायागयाहै।औरयहअकेलाकामभीइतनाबड़ाहैकिपैसेकाअच्छा-खासाइंतज़ामकरनापड़ेगा।

कुछकरतेदिखनेकीहालतभीनहींदिखती...

इनदोसालोंमेंमनरेगानामकीयोजनाकाइतनामजाकऔरविरोधकियागयाकिअगरसरकारइसमदमेंदोगुनीयातिगुनीरकमडालनाभीचाहेतोप्रचारकेलिहाजसेउसेऐसाकरनाअपनीछविनिर्माणकेलिएमुनाफेकाकामनहींलगेगा।औरफिरमनरेगासेअमीरतबकेकोजितनीबेचैनीहोचुकीहै,उसकीनाराजगीभीयहसरकारमोलनहींलेनाचाहेगी।

मनरेगाहीवहयोजनाथी,जिसनेदेशमेंरोजनदारीकेमजदूरकीकीमतबढ़ादीथी।60रुपयेरोजपरजोमजदूरकामकरनेकेलिएमजबूरहोताथा,उसकीदिहाड़ी250रुपयेरोजहोगईथी।गरीबीकेमारेसस्तेमजदूरनमिलनेसेशहरोंऔरकारखानोंमेंबेचैनीबढ़गईथी।करोड़ोंलोगोंकीगरीबीघटानेकायहएकजोखिमतोहैहीकिउद्योगव्यापारजगतमजदूरीकीलागतबढ़नेसेअपनामुनाफाकमहोतेदेखनहींपाएगा।हां,उन्हेंनाराजकरनेकाहौसलाइससरकारमेंहोतोबातअलगहैऔरबेशकयहसुखदआश्चर्यहोगा।

लोकतंत्रमेंगरीबीकीबारीकबात...

जरागौरकीजिएगा।लोकतंत्रकादर्शनहमसबसेसमानताकाहीवायदाकरताहै।यहसीमितवायदाइसलिएहै,क्योंकिमानवइतिहासकाअबतककाज्ञाननिर्विवादरूपसेबताचुकाहैकिपृथ्वीपरसंसाधनसीमितहैं।सबकीजरूरतेंतोपूरीहोनेकीस्थितिहै,लेकिनसबकीइच्छाएंयातमन्नाएंपूरीकरनेमेंयहपृथ्वीबेबसहै।अबअगरसबकोइच्छाधारीअमीरबनायाहीनहींजासकतातोलोकतंत्रकेवायदेकेमुताबिकसबकोबराबरीपरलानेकेलिएअमीरीमेंकटौतीक्योंनहींकीजासकती।

मसलन,गांवमेंहीजबगरीबीऔरअमीरीकारोगसमझमेंआयाथातोकिसानपरसीमितमात्रासेज्यादाजमीनरखनेपरलोकतांत्रिकपाबंदीलगादीगईथी।खेतीकीजमीनसीमितमात्रामेंहीरखनेकीयहपाबंदीयानीसीलिंगकाकानूनआजभीलागूहै।यानीयहकोईऐसीबातनहींहैकिकोईआसानीसेमजाकउड़ाकरखारिजकरदे।अमीरीबढ़ाओकेतरफदारोंकोबहसकरनीपड़ेगी।इसबारतोसमयनिकलगया।मौजूदासरकारनेअबतकशहरपरपाबंदीयाकटौतीकीकोईबातनहींकी,लेकिनआगेकेलिएसोचसकतीहै।सकतीक्याहै,सोचनीपड़ेगी।अंदेशायहभीसामनेखड़ाहैकिकहींगांवयागरीबहरियाणाकाजाटनबनजाए।

सनदरहेऔरवक्तपरकामआवेकिकल,यानीमंगलवारकोदोपहरमेंजाटआंदोलनसेतबाहीकेबादहरियाणाकेमुख्यमंत्रीजबकहरहेथेकिसारेगरीबोंकोनौकरियांदेदेंगेतोइसबातपरकिसीनेतालीनहींबजाई,बल्किहूटकरदिया।जनताअगरअबअविश्वसनीयवायदोंकेचक्करमेंआनेसेइंकारकररहीहैतोसमझजानाचाहिएकिवाजिबवायदेभीसंकोचकेसाथकरनेकासमयआगयाहै।